डायबिटीज किस उम्र में होता है | diabetes kis umar me hoti hai

Spread the love

डायबिटीज किस उम्र में होता है

प्रस्तावना

डायबिटीज एक ऐसा रोग है जिसमें शरीर के रक्त शर्करा स्तर का नियंत्रण खो जाता है, जिससे रक्तशर्करा स्तर अधिक हो जाता है। यह एक सीमित आयु में नहीं होता है, बल्कि यह किसी भी उम्र में हो सकता है। इस लेख में, हम जानेंगे कि डायबिटीज किस उम्र में हो सकता है और इसके प्रमुख प्रकार क्या होते हैं।

डायबिटीज के प्रकार

1. प्रारंभिक युवा डायबिटीज (Type 1 Diabetes)

डायबिटीज किस उम्र में होता है प्रारंभिक युवा डायबिटीज (Type 1 Diabetes) एक ऐसा डायबिटीज का प्रकार है जो आमतौर पर युवाओं और बच्चों में पाया जाता है। इसकी शुरुआत अकसर बच्चों की उम्र के 20 साल से कम होती है। यह डायबिटीज के प्रकारों में से एक है और इसके कारण और लक्षण अन्य प्रकारों से भिन्न होते हैं।

कारण:

प्रारंभिक युवा डायबिटीज का मुख्य कारण होता है शरीर के खुद के रक्तशर्करा कोशिकाओं के नष्ट हो जाने की प्रक्रिया, जिसके परिणामस्वरूप इंसुलिन की कमी होती है। इसका विशिष्ट कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसमें आगे बढ़ने वाले खुद के शरीर के रोगप्रतिरोध प्रणाली के साथ जीनेटिक और पर्यावरणीय कारक भी शामिल हो सकते हैं।

लक्षण:

प्रारंभिक युवा डायबिटीज के लक्षण अकसर निम्नलिखित होते हैं:

  • अच्छादित प्यास
  • बार-बार मूत्रपान की आवश्यकता
  • व्यायाम के बाद थकान
  • वजन कमी
  • बुखार और थकान का अहसास

इन लक्षणों को अनदेखा न करें और यदि आपको ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।

उपचार:

प्रारंभिक युवा डायबिटीज का उपचार इंसुलिन के प्रतिदिन की आवश्यकता के आधार पर किया जाता है। डॉक्टर द्वारा निर्धारित इंसुलिन खुराक को लागू करना आवश्यक होता है, और रोज़ रक्तशर्करा स्तर की निगरानी करनी चाहिए। इसके अलावा, स्वस्थ आहार और व्यायाम का पालन भी किया जाता है ताकि रक्तशर्करा स्तर को नियंत्रित किया जा सके।

2. प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज (Type 2 Diabetes)

डायबिटीज किस उम्र में होता है प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज (Type 2 Diabetes) डायबिटीज का एक प्रकार है जो आमतौर पर वयस्कों में होता है, और यह ज्यादातर 40 वर्ष की उम्र के बाद दिखाई देता है। इसकी शुरुआत धीरे-धीरे होती है और इंसुलिन का सही तरीके से उपयोग नहीं होता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्तशर्करा स्तर बढ़ जाता है।

कारण:

प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज का मुख्य कारण होता है अस्वस्थ जीवनशैली और अधिक वजन। यह डायबिटीज के प्रकारों में से एक है जिसमें इंसुलिन का सही तरीके से काम नहीं करता है और इंसुलिन प्रतिरोध बढ़ जाता है।

लक्षण:

प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज के लक्षण आमतौर पर निम्नलिखित होते हैं:

  • अधिक प्यास और मूत्रपान की आवश्यकता
  • अधिक भूख और खाने के बाद भी वजन कम न होना
  • थकान और असहीमति
  • चक्कर आना
  • दूरबीन से दिखाई देने वाले वस्त्रों में अच्छादन

उपचार:

प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज का उपचार में अहम भूमिका डायट और व्यायाम का होता है। डॉक्टर द्वारा निर्धारित डायट और व्यायाम की सम्पूर्णता से पालन करना आवश्यक होता है, ताकि रक्तशर्करा स्तर को नियंत्रित किया जा सके। इसके अलावा, डॉक्टर के सलाहनुसार दवाओं का भी सेवन करना हो सकता है।

किस उम्र में हो सकता है?

डायबिटीज किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन यह ज्यादातर वयस्कों में होता है। जब हम डायबिटीज के प्रकारों की बात करते हैं, तो प्रारंभिक युवा डायबिटीज बच्चों और तरुणों में अधिक होता है, जबकि प्रारंभिक वयस्क डायबिटीज वयस्कों के बीच आमतौर पर पाया जाता है।

डायबिटीज के कारण

डायबिटीज के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि आपकी आदतें, आपका आहार, वायरस संक्रमण, और जीनेटिक अंश।

डायबिटीज के कारण विभिन्न हो सकते हैं और इसका प्राधिकृतिक रूप से समझना महत्वपूर्ण है। निम्नलिखित हैं कुछ प्रमुख कारण:

  1. अस्वस्थ आहार: अस्वस्थ और अधिक तेली खाने से डायबिटीज का खतरा बढ़ता है। अधिक शर्करा और अधिक कैलोरी वाले आहार का सेवन डायबिटीज के लिए खतरनाक हो सकता है।
  2. वजन बढ़ना: अधिक वजन डायबिटीज के आगमन का कारण बन सकता है, खासतर जब वजन शरीर की संतुलित सीमा से बढ़ जाता है।
  3. जीनेटिक अंश: परिवार में किसी को डायबिटीज होने के कारण, यदि आपके पास उसके जीनेटिक अंश होते हैं, तो आपके लिए भी डायबिटीज का खतरा बढ़ सकता है।
  4. कम व्यायाम: योग्य व्यायाम की कमी और निष्क्रिय जीवनशैली डायबिटीज के खतरे को बढ़ा सकती है।
  5. योनिसंचरण रोगों का इलाज: कुछ योनिसंचरण रोगों के उपचार के दौरान डायबिटीज का खतरा बढ़ सकता है।
  6. यातायातिक विशेषज्ञों का काम: यातायात के काम करने वाले व्यक्तियों के लिए जो लंबे समय तक अपनी पैरों पर खड़े रहते हैं, उनके लिए डायबिटीज के खतरे को बढ़ा सकता है।
  7. वायरस संक्रमण: कुछ वायरस संक्रमण, जैसे कि रुबेला और सिटोमेगलोवायरस, डायबिटीज के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

डायबिटीज के लक्षण

डायबिटीज के लक्षण (Symptoms of Diabetes) शरीर में रक्तशर्करा स्तर के अधिक होने के कारण होते हैं। डायबिटीज के मुख्य लक्षण निम्नलिखित होते हैं:

  1. अधिक प्यास (Polydipsia): डायबिटीज के रोगी में अक्सर अधिक प्यास और जल जाने की आवश्यकता होती है।
  2. अधिक मूत्रपान (Polyuria): डायबिटीज के रोगी बार-बार मूत्रपान करने लगते हैं, और इससे उनका ज्यादा पेशाब आने लगता है।
  3. अधिक भूख (Polyphagia): डायबिटीज के मरीजों की भूख बढ़ जाती है और वे अधिक खाने की इच्छा रखते हैं, लेकिन वजन कम होता है।
  4. थकान (Fatigue): डायबिटीज के रोगी में अक्सर थकान की आवश्यकता होती है, जो उनकी दिनचर्या को प्रभावित करती है।
  5. आंखों में समस्या (Eye Problems): डायबिटीज के मरीजों में आंखों की समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि दृष्टि कमी, आंखों में दर्द या छाले।
  6. चक्कर आना (Dizziness): अधिक रक्तशर्करा स्तर डायबिटीज के मरीजों को चक्कर आने की समस्या पैदा कर सकता है।
  7. चमकती त्वचा (Skin Problems): डायबिटीज के रोगी की त्वचा में खुजली, छाले, और सूजन की समस्या हो सकती है।
  8. घाव बढ़ना (Slow Healing): डायबिटीज के मरीजों के घाव धीमे रूप से ठीक होते हैं, जिसके कारण चोटों का बढ़ना हो सकता है।
  9. बुखार (Infections): डायबिटीज के रोगी आसानी से संक्रमणों का शिकार हो सकते हैं, जैसे कि ब्लैडर इन्फेक्शन या फंगल संक्रमण।

डायबिटीज का इलाज

डायबिटीज का इलाज में रुचाना के साथ आपकी डॉक्टर की सलाह का पालन करना शामिल होता है, साथ ही स्वस्थ आहार और व्यायाम का भी महत्वपूर्ण हिस्सा होता है।

निष्कर्षण

इस लेख में हमने देखा कि डायबिटीज किस उम्र में हो सकता है और इसके प्रकार क्या होते हैं। यदि आपको डायबिटीज के बारे में और अधिक जानकारी चाहिए, तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. क्या बच्चों को भी डायबिटीज हो सकता है?

हां, प्रारंभिक युवा डायबिटीज बच्चों में भी हो सकता है, लेकिन यह कम आम होता है।

2. क्या डायबिटीज के लिए कोई उपाय है?

हां, डायबिटीज को नियंत्रण में रखने के लिए आपके डॉक्टर की सलाह का पालन करना चाहिए, साथ ही स्वस्थ जीवनशैली अपनानी चाहिए।

3. क्या डायबिटीज जीनेटिक होता है?

हां, डायबिटीज के कुछ प्रकार जीनेटिक हो सकते हैं, और परिवार में इसका इतिहास होने पर जोखिम बढ़ सकता है।

4. क्या डायबिटीज के लक्षणों को अनदेखा करने से कोई खतरा है?

हां, डायबिटीज के लक्षणों को अनदेखा करने से आपके स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है, इसलिए यदि आपको ये लक्षण दिखाई देते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

5. क्या डायबिटीज पूरी तरह से ठीक हो सकता है?

हां, डायबिटीज पूरी तरह से ठीक हो सकता है, लेकिन इसके लिए सख्त इलाज और स्वस्थ जीवनशैली की आवश्यकता होती है।

इस लेख के साथ ही, डायबिटीज के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें और स्वस्थ जीवनशैली को अपनाने का प्रयास करें।

मोटापा घटाने के लिये रात में करने चाहिए ये 4 जरुरी काम

Access Now: https://bit.ly/J_Umma


Spread the love

Leave a comment